ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

Gaurav Dubey

Gaurav Dubey

jaankari@jmcstudyhub.com

ये रेडियो (radio) ही है साहब जो मन बहलाता था। रेडियो के सम्मान में और उसे हमारी यादों में हमेशा ज़िंदा रखने के लिए यूनेस्को द्वारा साल 2011 में प्रत्येक वर्ष 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस मनाने का निर्णय लिया गया था। जिसके बाद साल 2012 में 13 फरवरी के दिन विश्व रेडियो दिवस को पहेली बार मनाया गया। आज विश्व रेडियो दिवस के इस मौके पर जे.एम.सी साहित्य की पूरी टीम आपको इस दिन की बधाई देती है और गौरव दुबे द्वारा लिखित रेडियो से जुड़ी यादों पर ये लघु कविता उपहार स्वरुप देती है और आशा करती है की इसे पढ़कर आपकी भी रेडियो से जुड़ी कोई याद ताज़ा होजाये। World Radio Day 13 February
radio poetry

ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

आवाज़ की दुनिया में ये हमको ले जाता था
ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

स्क्रीन की दुनिया को भी कब तक आंखे सहन करेंगी
सुकून तो इस दिल को आखिर रेडियो ही पहुंचता था

ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

नुक्कड़ की दुकानों पर कभी अपने पुराने ठिकानो पर
चाय की चुस्कियों में तो कभी मंज़िल पर पहुंचने वाली बग्गियों में

हर जगह बस ये अपनी याद छोड़ जाता था
ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

बढे ही नाज़ों से रखते थे इसे हमारे दादा
था इसका घर कच्चे मकानों में बना एक छोटासा आला

दादू की कच्ची नींद को इसने सालों संभाला था
ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

गांव के चौपालो पर एक मेला सा लग जाता था
जब क्रिकेट मैच रेडियो पर आता था

ये रेडियो ही है साहब जो मन बहलाता था

~ गौरव दुबे

रेडियो पर लिखी इस कविता की अनोखी प्रस्तुति देखने के लिए Youtube link पर click करें – Click Here

दीपों के त्यौहार पर लिखी कविता पढ़े – Click Here

About JMC Sahitya

About JMC Sahitya

JMC Sahitya is a creative section inside ‘JMC Study Hub’. We work for a creative story, poem, prose, shayari, ghazals etc., If you are interested to work with us then send your creatives.

Email : jaankari@jmcstudyhub.com

Related Post
Latest Video
Interview

Subscribe to Our Newsletter

Quick Revision
Open chat
Ned help ?
Hello, welcome to “JMC Study Hub”. How can we assist you?