कभी यूँ भी तो हो – डिम्पल सैनी

Gaurav Dubey

Gaurav Dubey

jaankari@jmcstudyhub.com

कभी यूँ भी तो हो की वो गुज़रा बचपन वापस आजाये, कभी यूँ भी हो की वो माँ का शीतल अंचल वापस आजाये, कभी यूँ भी हो की उस एक प्रेम पत्र का जवाब आजाये, कभी यूँ भी हो की वो बिता वक़्त वापस आजाये, कभी यूँ भी हो... कभी यूँ भी हो... ये "कभी यूँ भी हो" का ख़्याल हमारी अधूरी इक्षाओं को हमारे विचारों के माध्यम से पूरा करता है। उन इक्षाओं को जो शायद कभी पूरी हो भी सकती थीं और उन इक्षाओं को भी जो कभी पूरी नहीं होतीं। ख़ेर जो भी हो पर ये "कभी यूँ भी हो" का ख़्याल हमें एक आशा ज़रूर देता हैं। इसी आशा को अपनी एक कविता के माध्यम से दर्शाती हैं हरियाणा की रहने वाली हमारे JMC साहित्य की एक नई सदस्य डिम्पल सैनी उर्फ़ जुगनी। डिम्पल 2016 से अब तक मीडिया के कई क्षेत्रों (समाचार पत्र, न्यूज़ चैनल और रेडियो) का अनुभव ले चुकी है साथ ही आप दो महाविद्यालयों में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर भी रहीं हैं। साहित्य और काव्य में इनकी ख़ास रूचि है।
kabhi कभी यूँ भी तो हो

कभी यूँ भी तो हो

कि चमकते सूरज से चुटकी भर स लेकर किसी के अगाध दुःख के

द की जगह रखकर उसे नितांत सुख में परिवर्तित कर दिया जाये…

कभी यूँ भी तो हो

कि किसी अपने की देह को छोड़कर जाती उस रूह का हम जाते-जाते हाथ पकड़ पाये

और जाने से पहले उसे आख़िरी बार कसकर गले लगा पाये…

कभी यूँ भी तो हो

कि पीली पड़ चुकी उन एल्बम से जिसकी यादों की भीनी-भीनी महक हर रोज़ आती है ,

उन दूधिया बादलों में कभी-कभार उस शख़्स का हँसता-खिलखिलाता चेहरा भी दिख जाये…

कभी यूँ भी तो हो

कि किसी क़मीज़ पर बटन टांकने जितना सरल हो ,

डायरी के किसी कोने में अंतिम पलों सरीख़े वाक्य बग़ैर कांपे इन उँगलियों से लिखे जाये…

कभी यूँ भी तो हो

कि किसी बच्चे की कल्पना में इस आसमां का रंग सच में गुलाबी हो जाये

और उसके नन्हें-से अंगूठे और उंगली के बीच दबे चॉक से बनी वो गोरैया स्लेट पर सच में जीवंत होकर दाने चुगने बैठ जाये…

कभी यूँ भी तो हो

कि मेरी किताबों के बीच बुकमार्क के तौर पर रखे गए मेपल के पत्ते हर दिन रंग बदल-बदल कर

कभी हरे ,पीले , सफेद तो कभी लाल हो जाये मग़र सूखकर कभी बिखर ना पाये…

कभी यूँ भी तो हो

कि जिस प्रकार उसके रुठने पर हम उसे मनाते हैं कभी तो अपने रूठे बच्चों को मनाने वो भी यहां आये…

ये धरती ये नदिया ये अंबर ये सब जिसका है कभी वो ख़ुदा ख़ुद भी अपने इस घर आये…

इस जुगनी के कई सवालों के जवाब किसी भी इंसान के पास नहीं इनके जवाब देने वो ईश्वर खुद यहां आये…

कभी यूँ भी तो हो….कभी यूँ भी तो हो….

~ डिम्पल सैनी (जुगनी)

रेडियो से जुड़ी आपकी पुरानी यादें ताज़ा करदेगी ये कविता youtube पर सुने – click here

Tribute for Lata Mangeshkar ji – click here

दीपावली के पावन त्यौहार पर एक सुन्दर कविता – click here

About JMC Sahitya

About JMC Sahitya

JMC Sahitya is a creative section inside ‘JMC Study Hub’. We work for a creative story, poem, prose, shayari, ghazals etc., If you are interested to work with us then send your creatives.

Email : jaankari@jmcstudyhub.com

Related Post
Latest Video
Interview

Subscribe to Our Newsletter

Quick Revision
error: Content is protected !!

Aiming to Crack NET- JRF 2022?

Crash Course started for UGC NET Paper II- Journalism and Mass Communication.

Hurry up now.

Open chat
Ned help ?
Hello, welcome to “JMC Study Hub” thank you for visiting our learning platform. How can we assist you?