JMC  Sahitya "पत्रकारिता और साहित्य के बीच गर्भ-नाल का संबंध है आज का जल्दबाजी में लिखा गया समाचार कल का साहित्य होता है"

Today's Top 5
जिस देश में पत्रकार और उनकी पत्रकारिता आज़ाद नही है उस देश में भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी, ओर आतंकवाद जैसी तमाम चीज़े आज़ाद हो जाती हैं
Today's Top 5
पत्रकारिता शिर्फ़ देश का चौथा स्तंभ ही नही होती वो उस छत की तरह भी होती है जिसके न होने से देश की जनता झूट और फ़रेब की बारिश में भीगती है
Play Video
error: Content is protected !!

Aiming to Crack NET- JRF?

Crash Courses started for Paper II- Journalism and Mass Communication. Now Available on App.

Book your seat now.