कलम : ग़ुलाम भी आज़ाद भी

Gaurav Dubey

Gaurav Dubey

jaankari@jmcstudyhub.com

जिस कलम ने सर उठाके आज़ादी की हवा में सांस भी ली और ग़ुलामी की जंज़ीरों में अपने कई दिन भी गुज़ारे लेकिन उसकी चमक न तब कम थी न आज कम है। आज शायरी कविता आदि के संग्रह हम कलम की तारीफ और आज़ादी और गुलामी की हकीकत पर लिखीं गई
कलम पर शायरी
वक़्त बदलता रहा और वक़्त के साथ लोगों के विचार भी. कभी लोगों को एकता की डोर से बांधने का विचार, कभी इंक़लाब लाने का तो कभी जनता पर ज़ुल्म कर रही हुक़ूमत के खिलाफ.  हर सदी में उस सदी के कलमकारों का एक मात्र सहारा उनकी कलम बनी। जिसने कभी तुलसी दास के हाथों में रहकर राम को घर-घर तक पहुंचाया, वहीं जब वो कलम मिर्ज़ा ग़ालिब के पास आई तो दुनिया ने वो अंदाज़-ए-बयान देखा जिसकी आज कोई कल्पना भी नहीं कर सकता, और वो वही कलम थी जिसने जब सआदात हसन मंटो के घर दस्तक दी तो मंटो ने अपनी आईना दिखाती हुई रचनाओं से झूठी शान-ओ-शौकत के नक़ाब पहने लोगों के चेहरे बेनकाब किये। जिस कलम ने सर उठाके आज़ादी की हवा में सांस भी ली और ग़ुलामी की जंज़ीरों में अपने कई दिन भी गुज़ारे लेकिन उसकी चमक न तब कम थी न आज कम है।
आज शायरी कविता आदि के संग्रह में हम कलम की तारीफ और आज़ादी और गुलामी की हकीकत पर लिखीं गई अलग-अलग शायरों की रचनाओं को आपके सामने लेकर आये हैं। चलिए शुरू करते हैं  शमशीर-ए-सुख़न पर यानि कलम पर लिखी कुछ रचनाओं का सिलसिला -ं

कलम शब्द पर  शायरी

____________________________

 

मेरे जज़्बातों से इस कदर वाकिफ हैं मेरी कलम,
मैं इश्क भी लिखना चाहूँ तो इक़लाब लिखा जाता हैं।
~ भगत सिंह
____________________________
फ़लक पे भोर की दुल्हन यूँ सज के आई है ।
ये दिन उगा है या सूरज के घर सगाई है ।
अभी भी आते हैं आँसू मेरी कहानी में,
कलम में शुक्र-ए- खुदा है कि ‘रौशनाई’ है ।
~ कुमार विश्वास
____________________________
यहां ख़ुशबुओं की रिफ़ाक़ते न तुझे मिलीं न मुझे मिलीं,
वो चमन के जिसपे ग़ुरूर था न तेरा हुआ न मेरा हुआ ।
वो जो ख़्वाब थे मेरे ज़हन में न मैं कह सका न मैं लिख सका,
के ज़बां मिली तो कटी हुई के कलम मिला तो बिका हुआ ।
~ इक़बाल अशहर
____________________________
पीकर जिनकी लाल शिखाएँ
उगल रही सौ लपट दिशाएं 
जिनके सिंहनाद से सहमी
धरती रही अभी तक डोल
कलम आज उनकी जय बोल ।
~ रामधारी सिंह दिनकर
____________________________
वही ताज है वही तक़त है वही ज़हर है वही जाम है ।
ये वही ख़ुदा की ज़मीन है ये वही बूतों का निज़ाम है ।
 
बढ़े शौक़ से मेरा घर जला कोई आंच तुझपे न आएगी,
ये ज़बाँ किसी ने ख़रीद ली ये कलम किसी का ग़ुलाम है ।
~ बशीर बद्र
____________________________
सारी दुनिया मे कलमकारों की वक़त गिर जाए ।
मैं कलम रख दूं तो अल्फ़ाज़ की सेहत गिर जाए ।
 
मुंकशिफ जल्दी से होते ही नही हैं हम लोग,
वर्ना हम हाथ उठाले तो हुक़ूमत गिर जाए ।
~ मुनव्वर राना
____________________________
जो बात कहते डरते हैं सब तू वो बात लिख ।
इतनी अंधेरी थी न कभी पहले रात लिख ।
 
जिनसे कसीदे लिखे थे वो फेंक दे कलम,
फिर खून-ए-दिल से सच्चे कलम की शिफ़ात लिख ।
 
जो रोज़ नामों में कहीं पाती नही जग़ह,
जो रोज़ हर जग़ह की है वो वारदात लिख ।
~ जावेद अख्तर
____________________________
बच्चों की फ़ीस उनकी किताबें कलम दवात,
मेरी गरीब आंखों में स्कूल चुभ गया।
~ मुनव्वर राना
____________________________
इश्क का होना भी लाजमी है शायरी के लिये,
कलम लिखती तो दफ्तर का बाबू भी ग़ालिब होता।
____________________________
ऐ मेरी कलम इतना सा एहसान कर दे
केह ना पाई जो ज़बान वो बयान कर दे ।
____________________________

JMC साहित्य के कॉलम ‘शब्द शायरी’ में आज कलम शब्द पर शायरियों का संग्रह आपने पढ़ा। उम्मीद है कि इस संग्रह से आपकी खोज पूरी हुई होगी। JMC साहित्य के लेख, संग्रह आदि में सुधार हेतु अपने महत्वपूर्ण सुझाव जरूर दें।

About JMC Sahitya

About JMC Sahitya

JMC Sahitya is a creative section inside ‘JMC Study Hub’. We work for a creative story, poem, prose, shayari, ghazals etc., If you are interested to work with us then send your creatives.

Email : jaankari@jmcstudyhub.com

Related Post
Latest Video
Interview

Subscribe to Our Newsletter

Quick Revision