अख़बार : इंक़लाब से इश्तिहार का सफर

Gaurav Dubey

Gaurav Dubey

jaankari@jmcstudyhub.com

अलग अलग समय पर शायरों ने जहाँ एक तरफ अखबार पर अपना भरोसा जताया वहीं अखबार की बदलती सूरत को देख अपना आक्रोश भी दिखाया। आज अख़बार के इसी सफर को दिखिए अलग अलग वक़्त के शेयरों की रचनाओं में –
अख़बार पर शायरी
जब से अख़बार ने साहित्यकारों से बात करना शुरू की तब से ही हालात बदलते गए और साहित्यकारों के अख़बार को लेकर ख़्याल भी।1780 में शुरू हुआ भारत में अखबार का सफर. आज हर शहर से लेकर हर गाँव तक अपनी जगह बना चुका है। जो कहींं न कहींं इंक़लाब की चिंगाड़ी को लेकर पैदा हुआ, कई मुश्किलों का सामना किया और आज कइयों ने इंक़लाब की चिंगाड़ी को बुझा कर इश्तिहार की ठंढ़ी हवा में खुद को परेशानियों की धूप से बहुत दूर कर लिया। हालांकि अख़बार में इश्तिहारों का होना बहुत जरूरी भी है। एक बेहतर अख़बार बनाने के लिए भी और ख़बर के नज़रिए से भी क्योंकि किसी चीज़ का इश्तिहार जनता को जानकारी भी देता है जिसकी उन्हें ज़रूरत है लेकिन सिर्फ़ इश्तिहार ख़बर नहीं होते। यहाँ इश्तिहार का मतलब अखबारों में आये बदलाव से है कि किस तरह सच को लोगों के सामने लाने की उमंग व्यापार में तब्दील हुई और शायद यही वजह रही कि अलग-अलग समय पर शायरों ने जहाँ एक तरफ अख़बार पर अपना भरोसा जताया वहींं अखबार की बदलती सूरत को देख अपना आक्रोश भी दिखाया। आज अख़बार के इसी सफर को देखिए अलग-अलग वक़्त के शायरों की रचनाओं में,

अख़बार शब्द पर शायरी

____________________________
खींचों न कमानो को न तलवार निकालो,
जब तोप मुकाबिल हो तो अख़बार निकालो ।
~ अक़बर इलाहाबादी
____________________________
जो दिल को है ख़बर कहींं मिलती नहींं खबर,
हर सुबह एक अज़ाब है अख़बार देखना ।
~ उबैदुल्लाह अलीम
____________________________
कौन पढ़ता है यहां खोल के दिल की किताब,
अब तो चेहरे को ही अख़बार किए जाना है ।
 ~ राजेश रेड्डी
____________________________
कोई कॉलम नहींं है हादसों पर,
बचाकर आज का अख़बार रखना ।
~ अब्दुस्समद “तपिश”
____________________________
सुर्खियां खून में डूबी हैं सब अख़बार की,
आज के दिन कोई अख़बार न देखा जाए ।
~ मखमूर सईदी
____________________________
बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा ।
जो नहीं होगा वो अख़बार में आ जाएगा ।
चोर उचक्कों की करो कद्र की मालूम नहीं,
कौन कब कौन-सी सरकार में आ जाएगा ।
~ राहत इंदौरी
____________________________
वो जिसका तीर चुपके से जिगर के पार होता है ।
वो कोई गैर क्या अपना ही रिश्तेदार होता है ।
किसी से अपने दिल की बात तू कहना ना भूले से,
यहां ख़त भी ज़रा सी देर में अख़बार होता है ।
~ कुमार विश्वास
____________________________
एक-दो दिन मे वो इकरार कहाँ आएगा ।
हर सुबह एक ही अख़बार कहाँ आएगा ।
आज जो बांधा है इन में तो बहल जायेंगे,
रोज इन बाहों का त्योहार कहाँ आएगा ।
~ कुमार विश्वास
____________________________
मुफ़्त की कोई चीज बाज़ार में नहीं मिलती ।
किसान के मरने की सुर्खियां अख़बार में नहीं मिलती ।
____________________________
बंद लिफाफा थी जो अब इश्तिहार हो गयी ।
मेरी मासूम सी मोहब्बत अखबार हो गयी ।
____________________________
वहीं किस्से वही कहानियाँ मिलेंगी हमेशा मुझमें,
मैं कोई अखबार नहीं जो रोज़ बदल जांऊ।
____________________________

JMC साहित्य के कॉलम ‘शब्द शायरी’ में आज ‘अख़बार’ शब्द पर शायरियों का संग्रह आपने पढ़ा। उम्मीद है कि इस संग्रह से आपकी खोज पूरी हुई होगी। JMC साहित्य के लेख, संग्रह आदि में सुधार हेतु अपने महत्वपूर्ण सुझाव जरूर दें।

About JMC Sahitya

About JMC Sahitya

JMC Sahitya is a creative section inside ‘JMC Study Hub’. We work for a creative story, poem, prose, shayari, ghazals etc., If you are interested to work with us then send your creatives.

Email : jaankari@jmcstudyhub.com

Related Post
Latest Video
Interview

Subscribe to Our Newsletter

Quick Revision